तिहाड़ जेल में चाय-पान

Ramzy Baroud’s poem, written with Rafiq Kathwari: Teatime in Tihar Jail

He sipped
then walked slowly
head held high
greeting the hangman
with a gentle nod
eyes sunk to heart
beard grew defiant
remembering the judge
asking to repeat
alphabets of servitude
Instead he roared names
of forefathers who too died
standing tall like the Himalayas
And on that last stroll
he remembered his
mother’s tender touch
his son Ghalib named
after the poet he loved
friends long gone
his silly dreams
heaven above
this playground
where unruly children
refuse to learn
the etiquette of captivity
in rooms with no windows
only high grey walls
where they pumped
petrol into his anus
to break Afzal Guru
countless others of
same skin and soul
His face the color
of parched earth
lips never ceased
reciting one last poem
the hangman swore
for God’s unruly children
to live forever Free

I’ve attempted a translation into Hindi, originally posted here on Kagaaz, run by Tyler Williams.

तिहाड़ जेल में चाय-पान

चुस्कियाँ लीं
फिर हौले से चला
सर उठा के
हलके इशारे से करता
सलाम जल्लाद को
आँखें जी में गड़ती थीं
दाढ़ी शोख़-बेबाक
उस क़ाज़ी को याद कर
जो मुकर्रर करवाता रहा
कालेपानी के काग़ज़ात ।
बजाय उसके, वो ग़ुर्राया नाम
उन गुज़रे पुरखों के जो उस जैसे
हिमालय से चौड़े खड़े रहे ।
और उस आख़िरी सैर के दौरान
याद आया उसे
माँ का ममता-भरा हाथ
अपना बेटा ग़ालिब, जिसका नाम
अपने पसंदीदा शायर पे रखा था उसने
छूटे हुए यार-दोस्त
भोले-बचकाने ख़्वाब
आसमानी जन्नत
ये मैदान
जहाँ शैतान बच्चे
नहीं सीखते
क़ैद होने की तमीज़
ऊँची-भूरी दीवारों वाले
बंद कमरे में
डाला गया जबरन
पेट्रोल गुदा में
अफ़ज़ल गुरु को चूर करने को
उसकी शक्ल-ओ रूह वाले
कितने ही औरों को भी ।
रंगत उसकी शक्ल की
झुलसी हुई ख़ाक सी
लब थमे नहीं
ज़िक्र करते रहे
वो आख़िरी नज़्म
जल्लाद का बयान था
ख़ुदा के ये शैतान बच्चे
जियें हरदम आज़ाद

Leave a Reply